झारखंड पुलिस ने महिला को बचाया, बेटी को ‘अस्थिर’ पति ने बंधक बनाया

[ad_1]

झारखंड पुलिस ने एक महिला और उसकी 2 साल की बेटी को बंधक बनाया, जिसे उसके पति ने बचाया था।

महिला को उसके पति ने अपने घर पर बंदी बनाया हुआ था। (फोटो: इंडिया टुडे)

एक महिला और उसकी 2 वर्षीय बेटी को उसके पति द्वारा बंधक बनाकर रखा गया था, जिसे झारखंड के दुमका पुलिस ने मंगलवार को घंटों संघर्ष के बाद बचाया। महिला, पिंकी और उसकी बेटी को पिछले तीन दिनों से उसके पति द्वारा बंदी बनाया जा रहा था।

महिला के पिता अजय उपाध्याय के पटना से दुमका आने के बाद मंगलवार को हाई-वोल्टेज ड्रामा शुरू हो गया। हालांकि, उनके दामाद ने उन्हें मिलने से मना कर दिया। उपाध्याय को बाद में पता चला कि उनके दामाद ने तीन दिन पहले अपने घर में उनकी बेटी और पोती के साथ खुद को बंद कर लिया था। _

वह व्यक्ति कुछ दिन पहले ही अपनी पत्नी और बेटी को अपने ससुर के घर पटना लाया था। दुमका आने के बाद उन्होंने अपने परिवार के साथ एलआईसी कॉलोनी में अपने घर के अंदर ताला लगा दिया।

अजय उपाध्याय अपने दामाद से अपनी बेटी को बाहर करने का अनुरोध करते रहे। हालांकि, दामाद धमकी देता रहा कि अगर वह ऊपर आएगा, तो वह छत से अपनी पत्नी और बेटी के माध्यम से जाएगा। अंतत: पुलिस को घटना की जानकारी दी गई।

महिला थाना प्रभारी स्वेता कुमारी आखिरकार घंटों की बातचीत के बाद पति को दरवाजा खोलने के लिए राजी करने में सफल रहीं। इस व्यक्ति को हिरासत में लिया गया था जैसे ही वह बाहर आया जबकि उसकी पत्नी और बच्चे को एक पूर्व-खाली कार्रवाई के रूप में सुरक्षा कवर दिया गया था।

(फोटो: इंडिया टुडे)

कुमारी ने कहा, “पति मानसिक रूप से अस्थिर लगता है और उसे मनोचिकित्सक की जरूरत होती है। इस बात की पुष्टि उसके पिता ने भी की है जो एक पारिवारिक समारोह में शामिल होने के लिए दूर है।”

[ad_2]

Source link

Updated: January 19, 2021 — 5:58 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *